पूर्व महापौर और कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता के पारिवारिक फर्म छापा मार कार्यवाही

Scn news india

सुनील यादव की रिपोर्ट 

कटनी – कटनी के पूर्व महापौर और कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता विजेंद्र प्रकाश मिश्रा (राजा भईया ) के पारिवारिक फर्म में रात्रि के दौरान जिला प्रशासन ने छापा मार कार्यवाही की, अभी भी कार्यवाही जारी है ।

जानकारी के मुताबिक कटनी के प्रथम महापौर विजेंद्र मिश्र उर्फ राजा भैया के पारिवारिक फर्म में रात्रि 12 बजे जिला प्रशासन की सयुंक्त टीम ने छापा मार कार्यवाही की। टीम ने उनके पहरुआ स्तिथ कैरोसिन डिपो, पम्प एवं बस डिपो में छापा मारा। जहां से टीम को एक ही नम्बर की दो बसे तो मिली ही, पम्प में भी बायो डीजल, कैरोसिन का स्टॉक से अधिक भंडारण मिला। सयुंक्त टीम की कार्यवाही अभी भी जारी ।

कार्यवाही के दौरान कलेक्टर प्रियक मिश्रा ,रामानुज टोपे ,एसपी सुनील कुमार जैन, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, दो थानों के टीआई सहित खाद्य विभाग टीम सहित भारी बल पुलिस कर्मियों का मौजूदा रहा।
बता दें कि इस कार्रवाई के दौरान बड़ी मात्रा में स्टॉक से अधिक केरोसिन मिला है। मौके पर लगभग 50000 लीटर केरोसिन पाया गया है जिसे टीम ने जांच में लिया है। हजारों लीटर स्टॉक से अतिरिक्त केरोसिन पाया गया है यह केरोसिन अंडर ग्राउंड टैंकरों सहित ट्रकों में भरा हुआ था। एक टैंकर चौदहा फिलिंग सेंटर का भी बताया जा रहा है जिसे यहां पर छिपा कर रखा गया था। साथ ही हाल ही में 2 दिन पहले हुई मेसर्स किरार ट्रेडर्स केरोसिन डीलर के यहां की कार्रवाई से भी जोड़ा जा रहा है। यहां पर भी केरोसिन पहुंचता था इस कार्रवाई के दौरान एक ही नंबर की दो बसें पाई गई हैं जिन्हें भी जांच में लिया गया है। उक्त कार्रवाई कलेक्टर व एसपी के नेतृत्व में की गई है।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को रास नहीं आया मीडिया कवरेज
हैरानी की बात तो यह रही कि केरोसिन की कालाबाजारी व व्यापक गड़बड़ी को उजागर करने के लिए प्रशासन ने कार्रवाई कराई। कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक ने खुद इस कार्रवाई का नेतृत्व किया यहां तक की जिले के वरिष्ठ अफसरों ने इस कारनामे को उजागर करने के लिए मीडिया को बुलाया, लेकिन अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनोज केडिया को मीडिया का कवरेज रास नहीं आया। उन्होंने कहा कि मीडिया वाले यहां की सीक्रेट बातें छाप देंगे कुछ भी छाप देंगे उससे दिक्कत होगी। अब सवाल ये उठता है कि यदि कुछ गड़बड़ी उजागर की जा रही है तो सच्चाई सामने आने से एडिशनल एसपी को क्या दिक्कत है। यह बात मीडिया कर्मियों की समझ के परे रही। इस मामले को लेकर पुलिस अधीक्षक ने कहा कि यदि उन्होंने मीडिया से ऐसी बात की तो गलत है हम उनसे बात करते हैं।