17 लाख की कंप्यूटर खरीदी के मामले में जबलपुर की टीम ने कन्या महाविद्यालय पहुंच की दस्तावेजों की जांच

Scn news india

संवाददाता सुनील यादव 

कटनी। शहर के शासकीय कन्या महाविद्यालय में कंप्यूटर खरीदी की जांच करने जबलपुर से टीम पहुंची थी इस दौरान सही जानकारी देने के बजाय सदस्य और प्राचार्य एक दूसरे पर जिम्मेदारी थोपते नजर आए। तकरीबन 4 घंटे के अंतराल में 30 सिस्टम खरीदी की फाइल खंगालने का काम 4 सदस्य टीम करती रही इसके बावजूद वे प्राथमिक रूप से किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सके।

आलम यह रहा कि शिकायत के आधार पर जांच करने पहुंचे अधिकारी अपना नाम कालेज के प्राचार्य डॉ आर के गुप्ता से ही पूछने की बात कि बार-बार रट लगाए रहे वहीं प्राचार्य ने नाम बताने से यह कहकर इंकार कर दिया की सदस्य ही नाम बताएंगे अतिरिक्त संचालक उच्च शिक्षा क्षेत्रीय कार्यालय जबलपुर की जांच टीम का जिम्मा महिला अधिकारी के पास रहा तो सहयोग के लिए तीन अन्य कर्मचारी रहे।

कंप्यूटर खरीदी का यह मामला उस समय विवादों में आया जब कंप्यूटर सप्लायर को भुगतान करने के लिए गुणवत्ता समिति पर दबाव डाला गया गुणवत्ता देखने का काम आईटीआई कॉलेज के व्याख्याताओं को दिया गया था जिन्होंने यह कहकर गुणवत्ता पर सवालिया निशान लगाए कि खरीदे गए उक्त कंप्यूटरो में लोकल ब्रांड की सामग्री लगाई गई है। अधिक दबाव डालने पर मामला जिला प्रशासन तक पहुंच गया इसमें जिला प्रशासन भी अलग से जांच करा रहा है चुनाव कार्य में व्यस्त होने के कारण प्रशासन की यह जांच अधूरी पड़ी है। लेकिन कन्या महाविद्यालय का कंप्यूटर खरीदी का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है।