ठेका मजदूरों को पांच माह से नहीं मिला वेतन कलेक्टर ने ठेकेदार के विरूद्ध कार्रवाई करने दिए निर्देश

Scn news india

 

उजेन्द्र कुमार 

ठेका मजदूरों को पांच माह से नहीं मिला वेतन
कलेक्टर ने ठेकेदार के विरूद्ध कार्रवाई करने दिए निर्देश
सीमेन्ट कम्पनी पंचायत की एनओसी बगैर कर रहा खनन
खेल मैदान एवं पशुओं के मुक्तिधाम को
अतिक्रमण से मुक्त कराएंगे एसडीएम
कलेक्टर ने जन-चौपाल में सुनी आम जनता की समस्याएं 

बलौदाबाजार,7दिसम्बर 2021/कलेक्टर श्री सुनील कुमार जैन ने आज यहां साप्ताहिक जन-चौपाल में बड़ी संख्या में दूर-दराज से आये ग्रामीणों से मुलाकात कर उनकी समस्याएं सुनी। उन्होंने गंभीर किस्म की कुछ समस्याओं को समीक्षा के लिए साप्ताहिक टीएल में रखकर अफसरों को समय-सीमा में समाधान के निर्देश दिए हैं। जन-चौपाल में आज 40 से ज्यादा प्रकरणों की सुनवाई हुई। कलेक्टर ने बिजली विभाग में कार्यरत श्रमिकों को विगत पांच महीने से वेतन नहीं मिलने की सूचना को गंभीरता से लेते हुए ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश बिजली विभाग को दिये हैं। जिला पंचायत सीईओ डॉ.फरिहा आलम सिद्धिकी एवं अपर कलेक्टर श्री राजेन्द्र गुप्ता ने भी लोगों की समस्याएं सुनकर निदान किया।

जन-चौपाल में सिमगा विकासखण्ड के ग्राम पंचायत परसवानी की सरपंच श्रीमती कुसुम डहरे ने अल्ट्राटेक सीमेन्ट कम्पनी हिरमी पर बिना पंचायत की अनुमति के खदान संचालित करने का आरोप लगाया। उन्होंने लाईन 2 माईन्स के लिए पंचायत से एनओसी नहीं ली है। कलेक्टर ने उद्योग विभाग के महाप्रबंधक को इसकी जांच कर आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश दिये हैं। बिलाईगढ़ के गोविन्दवन निवासी शंकरलाल डडसेना ने अपने घर में संचालित कन्या छात्रावास का लंबित किराया दिलाने की मांग की। उन्होंने बताया कि विगत लगभग 2 साल से किराया नहीं मिला है। सहायक आयुक्त आदिवासी विकास को जल्द भुगतान कर सूचित करने को कहा है। ग्राम खैंदा (डमरू) विकासखण्ड बलौदाबाजार के शासकीय खेल मैदान पर कुछ लोगों ने अवैध कब्जा कर लिया है। कलेक्टर ने एसडीएम को अतिक्रमण की कार्रवाई करने को कहा है। मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना के तहत पांच साल पूर्व प्रशिक्षण प्राप्त अभ्यर्थियों को मानदेय नहीं मिलने की जानकारी पर कलेक्टर ने श्रम विभाग को आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। कसडोल के ग्राम कुम्हारी में मुर्दा मवेशी चिरने फाड़ने के लिए आरक्षित भूमि पर से अवैध कब्जा हटाने के लिए आये आवेदन को एसडीएम कसडोल को भेजते हुए कार्रवाई करने को कहा गया है।