गर्भवती महिला से बिना पति के पूछे सिजर के कागज़ाे पर करवाया दस्तखत – मचा बवाल -जनपद पंचायत अध्यक्ष ने लगाई फटकार

Scn news india

कटनी से सुनील यादव की रिपोर्ट

जिला अस्पताल कटनी और विवाद का पुराना नाता है अस्पताल परिसर में फाटकों के धमाके की गूंज अभी थमी ही नहीं थी की दूसरा एक और सनसनी खेज मामला सामने आया है।

जहाँ जिला अस्पताल में डिलेवरी कराने आई एक महिला से बिना पति के पूछे सिजर के लिए कागज़ाे पर दस्तखत करा लिए। जब परिजनों ने इसकी वजह पूछी तो डॉक्टरों व नर्सो ने उनके साथ अभद्रता की।

जिसकी सूचना पा कटनी जिले के जनपद पंचायत के अध्यक्ष कन्हैया तिवारी अचानक जिला अस्पताल पहुँचे और डिलेवरी वॉर्ड की नर्सो व डॉक्टर को जमकर फटकार लगाई। इसी के साथ फ़ोन लगा जिला अस्पताल के सिविल सर्जन यशवंत वर्मा को भी जमकर फटकार लगाई।

कटनी जिले का आदर्श कॉलोनी निवासी एम महिला डिलेवरी के लिए गुंजा द्विवेदी के नामक एक महिला की परिजन प्रतिमा पांडे ने आरोप लगाते हुए बताया कि अस्पताल की नर्सो ने गुंजा से जबरन बिना पति के पूछे सीजर कराने के कागजातों में साइन करा लिए और जब परिजन इसकी जानकारी जाननी चाही हो डिलेवरी वॉर्ड में मौजूद नर्सो व डॉक्टरों ने अभद्रता करने लगे..जिसके बारे में उन्होंने इसकी सूचना जनपद पंचायत के अध्यक्ष कन्हैया तिवारी को दी और वे जिला अस्पताल में अचानक जिला जनपद पंचायत अध्यक्ष कन्हैया तिवारी पहुँचे और गार्ड द्वारा उन्हें रोकने पर वह भड़क गए और नर्सो को गेट में बुलावा जमकर फटकार लगाई और तो और कन्हैया तिवारी ने सिविल सर्जन को भी फोन लगा उन्हें भी फटकार लगाते दिखे ओर जिला अस्पताल की व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कहा कि सरकार द्वारा मरीजों को कई सुविधा मुहैया कराई जाती है।

लेकिन इस तरह के डॉक्टरों व नर्सो के चलते सरकार को दोषी बताया जाता है जिसे सुधारने की जरूरत है इसके बाद जैसे ही वे अस्पताल गेट पर पहुँचे तो जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने उन्हें घेर लिया.. कन्हैया तिवारी ने कहा कि उन्हें जैसे ही इसकी शिक़ायत मिली व तुरंत जिला अस्पताल पहुँचे जहा उन्हें डॉक्टर तो नही मिले और जब नर्सो से बात की गई तो वे सभी फोन पर डॉक्टरों स्व बात कराने लगी जिससे उन्हें गुस्सा आ गई …इस तरह की लापरवाही देख लगता है कि जिला अस्पताल में बिना डिग्री के डॉक्टर बन कर बैठे हुए है और मरीजों को अपने प्राइवेट क्लिनिक में लाने के लिए उन्हें जिला अस्पताल में प्रताड़ित किया जाता है इस तरह का धंधा चलता है।