असमंजस्य में अभिभावक – स्कूल खोलने को लेकर विरोध के सुर उठने लगे धीरे धीरे

Scn news india

हर्षिता वंत्रप 

भोपाल- कोरोना त्रासदी के बाद संभले हालात में स्कूलों के खोले जाने से जहाँ स्कुल संचालकों ने राहत की साँस ली थी वही अब फिर ये सांसे उखड़ने की बारी है। छत्तीसगढ़ राजस्थान से स्कूलों में संक्रमण फ़ैलने की खबर से अभिभावक असमंजस्य में दिखाई दे रहे है। जितनी उन्हें बच्चो के भविष्य की चिंता है उतनी ही उनके स्वस्थ को ले कर भी चिंताए है। यही वजह है कि अब पालक बच्चों को स्कुल भेजे जाने के पक्ष में नहीं दिखाई दे रहे। प्रदेश में स्कूल खोले जाने को लेकर विरोध शुरू हो गया है।

बता दे कई  भोपाल के एक काॅन्वेंट स्कूल ने एक सप्ताह पहले ही  क्लास में बच्चों की उपस्थिति अनिवार्य कर दी। इसके विरोध में बड़ी संख्या में गुरुवार सुबह अभिभावक स्कूल पहुंच गए और  स्कूल प्रिंसिपल से भी मुलाकात  दो दिन का समय मांगा है। इसी तरह से प्रदेश के अन्य शहरों से भी विरोध के सुर धीरे धीरे उठने  लगे हैं। इधर,  जागृत  पालक संघ मध्यप्रदेश  भी  इस मामले में हाई कोर्ट जबलपुर में एक याचिका लगाने जा रहा है।  सरकार की ओर से अभी इस  मामले में कोई जवाब नहीं आया है।

 हालांकि स्कूल प्रबंधन का कहना है की स्कूलों का संचालन पूरी एहतियात से किया जा रहा रहा। क्लास में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बिठाया जा रहा है। लेकिन सवाल ये भी है की जब 100 उपस्थिति आने लगेगी तो क्या 100 % कोविड गाईड लाईन का पालन हो सकेगा।