जिले के बजाग मुख्यालय बजाग में भागवत कथा का अंतिम दिन, आज हवन, कन्या भोज और भंडारा

Scn news india

डिंडोरी गणेश शर्मा।।

अरे द्वारपालो कन्हैया से………..
सुदामा चरित्र की कथा का हुआ वाचन

संगीतमय श्रीमद् भागवत सप्ताहिक ज्ञान यज्ञ बजाग तहसील मोहल्ला में सप्तम एवं अंतिम दिवस की कथा मे कथावाचक पंडित श्री प्रमोद त्रिपाठी जी के द्वारा सुदामा चरित्र का वर्णन एवं भगवान श्री कृष्ण जी की अद्भुत कथा जिसमें सुदामा जी के द्वारा मित्र श्री कृष्ण जी से मिलने की कहानी का वर्णन आज भगवान श्री हरि भक्तों के द्वारा सुदामा जी की लीला सुनकर खुशी के आंसू रोने लगे भगवान श्री कृष्ण जी अपने बाल सखा सुदामा जी को अपने छाती से लगा कर रोने लगे अपने आसन में बैठा कर रोते-रोते आंसू से पैर धुले भगवान की लीला में कथा के साथ-साथ झांकियां भी निकाली जिसमें सुदामा जी पोटली में चावल लेकर अपने बाल सखा श्री कृष्ण जी से मिलने आते हैं भगवान श्री कृष्णा जी उस चावल को बड़े ही प्रेम के साथ ग्रहण करते हैं आज की यह भक्ति मय कथा सुन भक्तों द्वारा पूजन अर्चन कर श्रद्धा अनुसार दान किया गया यजमान के द्वारा अन्य वस्त्र भगवान भगवान को अर्पित किए गए।

 

संगीतकार केशव साहू, सुकृता धुर्वे, अशोक चंद्राकर, गजपाल गुप्ता , के द्वारा बहुत ही सुंदर अनेक भजनों का रसपान कराया गया के द्वारा रासलीला गरबा डांडिया पर अनेक भजन सुनाए गए। श्री हरी लाल साहू सरस्वती बाई पूज्य माता विद्या बाई साहू के द्वारा सापरिवार भगवान जी का पूजन कर अपने जीवन को कृतार्थ किया और भक्तों के द्वारा दान पुण्य किए गए जो कि आज का मनमोहक सुदामा दृश्य देख कर के भक्तों के आंखे भर आऐ।


पंडित श्री व्यास जी श्री प्रमोद त्रिपाठी जी द्वारा सुदामा जी की कथा में गुरुजी के भी आंसू निकल पड़े भाव विभोर होकर भक्त लोग कथा का रसपान कर अपने जीवन को कृतार्थ किए आज की है सप्तम दिवस की कथा शयन कालीन आरती के पश्चात आज के कथा का समापन किया गया।‌ सुदामा का जीवन त्याग तपस्या और वैराग्य का प्रतीक है, भगवान कृष्ण के प्रति उनकी भक्ति और भगवान कृष्ण की मित्रता सदियों से हम आपके लिए दोस्ती की मिसाल है।