जनजातीय भाई-बहनों का कल्याण सर्वोच्च प्राथमिकता : मुख्यमंत्री श्री चौहान

Scn news india

हर्षिता वंत्रप 

भोपाल-मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जनजातीय भाई-बहनों का कल्याण राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। जनजातीय गौरव सप्ताह में अनेक जनजातीय कल्याण कार्यों को प्रारंभ किया गया है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 15 नवम्बर को भोपाल में भगवान बिरसा मुंडा की जयंती जनजातीय गौरव दिवस के रूप में मनाने की शुरुआत की है। पूरे देश में जनजातीय वर्ग के कल्याण के कार्यों को गति दी गई है। इसी श्रृंखला में 22 नवम्बर को मंडला में जनजातीय गौरव सप्ताह का समापन सम्मेलन होगा, जिसमें जनजातीय कल्याण के अनेक कार्यों को प्रारंभ किया जा रहा है।

स्वतंत्रता आंदोलन में जनजातीय नायकों की सक्रिय भागीदारी को सम्मानित करने के लिए भी प्रयास किए जा रहे हैं। जननायक शंकर शाह और रघुनाथ शाह की प्रतिमाएँ मंडला के राजराजेश्वरी किला वार्ड में स्थापित होंगी, जिसका भूमि-पूजन भी होगा। इस कार्यक्रम की तैयारियों को आज अंतिम रूप दिया गया। केन्द्रीय मंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते और जनजातीय विकास मंत्री सुश्री मीना सिंह ने शनिवार को कार्यक्रम स्थलों का निरीक्षण कर प्रशासनिक अधिकारियों के साथ कार्यक्रमों के व्यवस्थित रूप से संपन्न होने के सबंध में चर्चा की।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वनाधिकार अधिनियम में जनजातीय भाई-बहनों को सामुदायिक वन अधिकार प्रदान किए जाएंगे। साथ ही पट्टा वितरण और वनाअधिकार अधिनियम में प्राकृतिक एवं पर्यावास का अधिकार भी प्रदान किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि जनजातीय भाई-बहनों के कल्याण और विकास के लिए राज्य सरकार ने जो कहा है उसे क्रियान्वित किया जा रहा है। राज्य सरकार की योजनाओं का त्वरित क्रियान्वयन और हितलाभ का वितरण सुनिश्चित किया जा रहा है। जनजातीय गौरव सप्ताह, जनजातियों में जागरूकता लाने और उनकी जिंदगी बदलने का अभियान प्रारंभ हो चुका है।

 जनजातीय संस्कृति से जुड़े कार्यक्रम

मुख्यमंत्री श्री चौहान सम्मेलन में गोंड राजवंश के राजाओं के प्रति सम्मान व्यक्त करेंगे। यह कार्यक्रम मंडला के रामनगर में होगा, जिसमें मंडला की सभी प्रमुख जनजातियाँ जैसे गौंड, बैगा आदि सम्मिलित होंगी। कार्यक्रम में जनजातीय जीवन संस्कृति पर आधारित प्रदर्शनी, “एक जिला-एक उत्पाद” में महिला स्व-सहायता समूह द्वारा कोदो- कुटकी के उत्पाद का प्रदर्शन, गोंडी पेंटिंग तथा स्थानीय कलाकारों के द्वारा जनजातीय जीवन को प्रदर्शित करती चित्रकला प्रदर्शित की जाएगी।

विकास कार्यों का होगा लोकार्पण

जनजातीय गौरव सप्ताह के समापन सम्मेलन में 318 करोड़ रुपये के विकास कार्यों का भूमि-पूजन तथा 26 करोड़ रूपये के कार्यों का लोकार्पण होगा। जिले के 6 गाँवों के 148 बैगा परिवारों को पट्टा वितरण, वनाधिकार अधिनियम में 123 ग्रामों को 11 हजार 310 हेक्टेयर के सामुदायिक वन अधिकार का वितरण और अधिनियम में जनजातीय भाई-बहनों को अन्य अधिकार प्रदत्त किए जाएंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान जनजातीय महिला स्व-सहायता समूहों को 10 करोड़ रूपये का ऋण वितरण और 5 हजार जनजातीय परिवारों को बाँस के पौधों का वितरण करेंगे। मंडला जिले के समस्त बैगा परिवारों का घर-घर सर्वे कर शासन की समस्त योजनाओं से उन्हें लाभान्वित किए जाने की समग्र योजना “बेसिक एमिनिटी इंक्लूजन बाय गवर्मेंट एजेंसी” (बैगा) का शुभारंभ भी मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान बैगा संस्कृति पर आधारित पुस्तक का विमोचन और “राशन आपके ग्राम” योजना में 25 वाहनों को हरी झंडी दिखा कर रवाना करेंगे।