स्वच्छता के क्षेत्र में देश-प्रदेश का प्रेरणा स्रोत बना इंदौरः विष्णुदत्त शर्मा

Scn news india

हर्षिता वंत्रप 

स्वच्छता के क्षेत्र में देश-प्रदेश का प्रेरणा स्रोत बना इंदौरः विष्णुदत्त शर्मा
प्रदेशवासियों के सहयोग से मध्यप्रदेश को मिला तीसरा सबसे स्वच्छ राज्य का पुरस्कार

भोपाल। इंदौर और ‘स्वच्छता’ एक-दूसरे के पर्याय बन गए हैं। स्वच्छता में लगातार अपना परचम लहराने वाला यह शहर देश और प्रदेश के अन्य शहरों के लिए प्रेरणा स्रोत और पथ प्रदर्शक बन गया है। इंदौर का लगातार पांचवी बार सबसे स्वच्छ शहर चुना जाना प्रदेश के प्रत्येक नागरिक के लिए गर्व का विषय है। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा ने इंदौर के एक बार फिर देश का सबसे स्वच्छ शहर चुना जाने तथा शहर की सफाईकर्मी इंदिराबाई को सफाई मित्र अवार्ड मिलने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कही। श्री शर्मा ने कहा कि मध्यप्रदेश के 10 लाख से अधिक आबादी की श्रेणी में देश के 20 टॉप शहरों में मध्यप्रदेश के चार शहर का शामिल होना भी मध्यप्रदेश की बडी उपलब्धि है।
प्रदेश अध्यक्ष श्री शर्मा ने कहा कि इंदौर के स्वच्छता में एक बार फिर सिरमौर बनने पर मैं मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान, नगरीय प्रशासन मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह, इंदौर शहर के नागरिकों, अधिकारियों, सफाईकर्मियों और प्रदेशवासियों को बधाई देता हूं। उन्होंने कहा कि स्वच्छता अब इंदौर शहर की आदत बन गई है, जिसे प्रोत्साहित करने में प्रशासन, नगर निगम और समर्पित सफाईकर्मियों का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने कहा कि सफाई के प्रति इंदौर के नागरिकों, सफाईकर्मियों और व्यवस्था में लगे अधिकारियों के जज्बे को इस तथ्य से समझा जा सकता है कि कोरोना संकट के दौरान भी उन्होंने स्वच्छता के काम को बाधित नहीं होने दिया। श्री शर्मा ने आशा जताई कि प्रदेश के अन्य शहर भी इंदौर के रास्ते पर चलकर स्वच्छता के क्षेत्र में अपना नाम स्थापित करेंगे। श्री शर्मा ने स्वच्छ भारत मिशन के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के प्रति आभार जताते हुए कहा कि जिस उद्देश्य से यह मिशन शुरू किया गया था, उसमें वह पूरी तरह सफल रहा है और स्वच्छता देश-प्रदेश में एक जुनून बनती जा रही है।
मध्यप्रदेश को स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 में मिली अपार उपलब्धियां
प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि मध्यप्रदेश ने स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 में कई उपलब्धियां हासिल की है। 10 लाख से अधिक आबादी की श्रेणी में देश के 20 टॉप शहरों में इंदौर, भोपाल, ग्वालियर और जबलपुर का शामिल होना प्रदेशवासियों के लिए गौरव का विषय है। वहीं 1 से 10 लाख की आबादी की श्रेणी में प्रदेश के 25 शहर, 50 हजार से 1 लाख एवं 25 हजार से 50 हजार आबादी की श्रेणी इन दो वर्गों में प्रदेश के 26 शहर शामिल होना और 25 हजार से कम आबादी की श्रेणी में 35 शहर का शामिल होना मध्यप्रदेश के लिए बडी उपलब्धि है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के 6 शहरों को विभिन्न श्रेणियों में राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित होना और मध्यप्रदेश को देश के तीसरे सबसे स्वच्छ राज्य का पुरस्कार मिलना भी प्रत्येक प्रदेशवासियों के सहयोग से ही संभव हुआ है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने स्वच्छ भारत अभियान जिस संकल्पना के साथ शुरू किया उसे मध्यप्रदेश बखूबी आगे बढ़ा रहा है। श्री शर्मा ने कहा कि प्रदेश में खुले में शौच से मुक्ति में सफलता अर्जित की है। वर्ष 2021 के दौरान प्रदेश के 295 ओडीएफ डबल प्लस और 78 शहर ओडीएफ प्लस प्रमाणित हुए है। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष की तुलना में मध्यप्रदेश ने स्वच्छता सर्वेक्षण में बडी छलांग लगायी है। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान एवं नगरीय प्रशासन मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह के अथक परिश्रम और पुरस्कार प्राप्त करने वाले नगरीय निकाय के नागरिकों, जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों, कर्मचारियों के सहयोग से मध्यप्रदेश ने स्वच्छता सर्वेक्षण में देश में अलग स्थान बनाया है।