पत्रकारों से बातचीत में आचार्य कुलरत्न भूषण जी महाराज का आव्हान

Scn news india

  • जातिवाद को छोड़कर धर्म की राह पर चलें लोग
  • आयुर्वेद में हर मर्ज की दवा, जड़ी बूटियों से हुआ जटिल बीमारियों का समाधान
  • पत्रकारों से बातचीत में आचार्य कुलरत्न भूषण जी महाराज का आव्हान

कटनी। बुंदेलखंड के प्रसिद्ध जैन तीर्थ कुंडलपुर में मन्दिर निर्माण पूर्ण होने के बाद फरवरी में गजरथ महोत्सव एवं पंच कल्याणक महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। आचार्य विद्या सागर जी महाराज के सानिध्य में आयोजित होने वाले इस विराट आयोजन की युद्ध स्तर पर तैयारियां की जा रही हैं। मध्यप्रदेश के साथ ही पूरे भारतवर्ष के लिए यह सौभाग्य की बात है कि इस दौरान आयोजन में एक हजार से अधिक जैन मुनि और साध्वी की उपस्थिति रहेगी। उक्त आशय की जानकारी कटनी में पावन वर्षायोग में चातुर्मास कर रहे परम पूज्य 108 आचार्य कुलरत्न भूषण जी महाराज ने आज जैन धर्मशाला में पत्रकारों से बातचीत करते हुए दी।

आचार्य श्री ने बतलाया कि आगामी 31 अक्टूबर को झिंझरी स्थित जिला जैल में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। जिसमे बंदियो को अपराध की दुनिया छोड़ने के लिए प्रेरित किया जाएगा, साथ ही बंदियों के परिजनों को आर्थिक मदद देने का भी प्रयास किया जा रहा है। आचार्य श्री ने कहा कि हमारा यह सौभाग्य है कि अयोध्या में मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के भव्य मंदिर का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जातिवाद ने ही समाज को बांटकर रखा है।

जातियों को छोड़कर लोगों को धर्म को अपनाना चाहिए, तभी भारत का कल्याण होगा और भारत विश्वगुरु बनेगा। भारत की संस्कृति को पूरी दुनिया ने अपनाया है। उन्होंने आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति को लेकर कहा कि आयुर्वेद में हर मर्ज का इलाज है। आयुर्वेद से बड़ी से बड़ी बीमारियों का निदान सम्भव हुआ है। जड़ी बूटियों से लोगों को फायदा पहुंचा है, इसलिए लोगों को बीमारियों से छुटकारा पाने के लिए आयुर्वेद को अपनाना चाहिए। इस अवसर समाजसेवी राकेश जैन कक्का, मगन जैन, शेलेन्द्र जैन, आराधना जैन, कोमलचन्द जैन सहित जैन समाज के नागरिकों की उपस्थिति रही।