रियायती दरों पर किया जा रहा पालतू पशुओं का बीमा पशुओं की आकस्मिक क्षति के प्रकरणों में मिल रही राहत

Scn news india

रोहित नैय्यर ब्यूरो 

जबलपुर-भारत सरकार के राष्ट्रीय पशुधन मिशन अंतर्गत पशुपालन एवं डेयरी विभाग द्वारा जिले में पशुपालन बीमा योजना के अंतर्गत पशुपालकों के हितार्थ उनके पालतू पशुओं का रियायती दरों पर बीमा किया जा रहा है।

योजनांतर्गत पशुपालक अपने पालतू पशुओं जैसे देशी एवं संकर दुधारू पशु, भारवाही पशु जैसे घोड़ा, गधा, खच्चर, ऊँट, टट्टू, सांड, भैंसपाड़ा एवं अन्य पशु जैसे भेड़, बकरी, सूकर, खरगोश का बीमा करा सकेंगे। प्रत्येक परिवार से एक हितग्राही के अधिकतम 5 पशुओं का बीमा हो सकता है। भेड़, बकरी, सूकर, खरगोश के लिये 10 पशुओं की संख्या को “एक केटल इकाई” माना गया है। एक वर्ष के पशु बीमा हेतु प्रीमियम, पशु मूल्य का 2.92 प्रतिशत एवं तीन वर्ष हेतु 7.34 प्रतिशत निर्धारित किया गया है।
ए.पी.एल. वर्ग के हितग्राही को बीमा प्रीमियम पर 50 प्रतिशत अनुदान एवं बी.पी.एल., अनूसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति वर्ग के पशुपालकों को बीमा प्रीमियम पर 70 प्रतिशत अनुदान की पात्रता होगी। उदाहरण के तौर पर यदि पशु की कीमत 10 हजार रूपये है तो ए.पी.एल. वर्ग के हितग्राही को एक वर्ष हेतु राशि 146 रूपये एवं बी.पी.एल., अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति वर्ग हेतु राशि 88 रूपये देय होगी। पशु बीमा संबंधी विस्तृत जानकारी एवं बीमा कराने हेतु नजदीकी पशु चिकित्सा संस्था से संपर्क किया जा सकता है।
कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा के मार्गदर्शन में पशुपालन एवं डेयरी विभाग जबलपुर द्वारा जिले में वर्ष 2020 एवं 2021 में कुल 1301 पशुओं का बीमा किया चुका है एवं विभिन्न व्याधियों से पशुओं की आकस्मिक क्षति होने पर 18 पशुपालकों को बीमा दावे के रूप में 4 लाख 78 हजार रूपये की राशि प्रदान की चुकी है।
उपसंचालक पशु चिकित्सा सेवाओं डॉ. एस.के. बाजपेयी ने जिले के समस्त पशुपालकों से योजना का अधिक से अधिक लाभ लेने हेतु अपील की गई है।

Live Web           TV