संप्रेषण गृह और बाल गृह के बच्चों द्वारा निर्मित सामग्री की प्रदर्शनी संपन्न कलेक्ट्रेट में भी लगेगी प्रदर्शनी

Scn news india

रोहित नैय्यर ब्यूरो 

जबलपुर -महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा गोकलपुर में संचालित संप्रेषण गृह और बाल गृह के बच्चों का शी केन स्टैंड फाउंडेशन के सौजन्य से दिये, कैण्डल एवं दीपावली पर इस्तेमाल की जाने वाली सजावटी सामग्री के निर्माण का प्रशिक्षण आयोजित किया गया। प्रशिक्षण खास तौर पर प्रोफेशनल और स्किल डेवलपमेंट और बिजनेस सपोर्ट के लिए किया गया।
जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास मनीष सेठ के अनुसार प्रशिक्षण के माध्यम से बालगृह एवं संप्रेषण गृह के बच्चों को बुक मार्कर, पूजा चौकी, कैंडल होल्डर, टी कोस्टर एवं मिट्टी के कुल्हड़, थाली और दिया का कामबो, डेकोरेशन के साथ आर्टिकल पर वर्क सिखाया गया। जिसमें मुख्य रूप से डॉटआर्ट, मीना कारी आर्ट, तिब्बती आर्ट,  लेपर्ड आर्ट, मिरर आर्ट और 3डी लाइनर, डेको पेज आर्ट को शामिल किया गया था। बच्चों को प्रशिक्षण कुसुम करेंचा श्रद्धा पाठक और कनिका द्वारा दिया गया।
प्रशिक्षण के बाद बनाए गए आर्टिकल की बालगृह में प्रदर्शनी भी लगाई गई। इस आयोजन में अतिथि श्री योमेश अग्रवाल, डॉक्टर अनुश्री जामदार, अनुराग जैन, मीत मोटवानी, नीतू बुधौलिया, मीनल छत्तानी, नमृता भाटिया, प्रतिभा जैन ने बच्चों द्वारा बनाए गए आर्टिकल्स की सराहना की। सीमा सिंह चौहान ने भी बच्चों के उत्साहवर्धन के लिए अपनी शुभकामनाएं प्रेषित की।  ट्रेनिंग प्रोग्राम और वर्कशॉप के संयोजन में आकांक्षा तोमर, साधना तिवारी, डॉ स्वाति इंदु रखिया संध्या तिवारी, और अनुज शर्मा ने भी अपना सहयोग दिया। शी केन स्टैंड फाउंडेशन के मेंबर शिविना आहूजा, डॉ कामना तिवारी श्रीवास्तव श्वेता दुबे “पंखुरी तनेजा” गुरप्रीत वर्मा और राजेश बुनकर ने भी ट्रेनिंग के समय बच्चों का उत्साहवर्धन किया और कहा कि भविष्य में भी विभिन्न जगहों पर स्किल डेवलपमेंट का कार्य करेंगे।
जिला कार्यक्रम अधिकारी मनीष सेठ ने बताया कि संप्रेषण गृह एवं बाल गृह के बच्चों द्वारा दीपावली को देखते हुये बनाये गये दिये, कैण्डल एवं सजावटी सामग्री की प्रदर्शनी कलेक्टर कार्यालय में जल्दी ही लगाई जायेगी तथा यहां ये सामग्री विक्रय के लिये भी उपलब्ध कराई जायेगी।