पत्रकार अपनी सामाजिक जिम्मेदारी के साथ सकारात्मक सोच भी रखें – डॉ. भूपेन्द्र गौतम

Scn news india

मनोहर

इंदौर -पत्रकारिता सामाजिक सरोकार से जुड़ी हुई है। अतः पत्रकार अपनी सामाजिक जिम्मेदारी के साथ सकारात्मक सोच भी रखें तो क्षेत्र का विकास ओर तेजी से हो सकता है। किसी भी खबर को लिखने से पहले उस विषय की गहराई पर सोच विचार करना खबर को और प्रभावशाली बना सकता है।
उक्त बातें शनिवार को इंदौर संभाग के बड़वानी के जलसा रिसोर्ट में जनसम्पर्क विभाग द्वारा जन सरोकार और मीडिया विषय पर आयोजित संगोष्ठी में मुख्य अतिथि डॉ. भूपेन्द्र गौतम ने स्थानीय मीडिया बंधुओ को संबोधित करते हुए कही।
जिला जनसम्पर्क कार्यालय बड़वानी द्वारा आयोजित इस संगोष्ठी में इन्दौर के वरिष्ठ पत्रकार श्री सुनिल बघेल ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि समाचार पत्रों में जो भी खबर प्रकाशित होती है, उसका लोगों के सामाजिक जीवन एवं सोच पर बहुत प्रभाव पड़ता है। सच को साहस के साथ कहना जरूरी है, पर किस प्रकार कहे यह हमें आना चाहिए।  क्योकि मीडिया सामाजिक सरोकार की पर्यायवाची है। इलेक्ट्रानिक मीडिया में जो भी कुछ दिखाया जाता है, या प्रिंट मीडिया में जो भी कुछ प्रिंट होता है, उससे एक सामान्य व्यक्ति की सोच बनती है, और व्यक्ति अपनी सोच से एक धारणा बना लेता है। इसलिए मीडिया बंधुओं को भी सोचना ओर समझना आवश्यक है।
कार्यक्रम में जनसम्पर्क विभाग के संयुक्त संचालक इन्दौर डॉ. आर.आर. पटेल ने मीडिया बंधुओं को संबोधित करते हुए बताया कि प्रदेश सरकार ने बीते एक वर्ष में कई नीतियां बनाई है। सरकार ने एक साल में 365 वचन पूरे किये है, जिनमें से 164 वचन पूरे एवं 201 वचन सतत् पूरे हो रहे है। प्रदेश सरकार के कार्यकाल का एक वर्ष पूर्ण होने पर उक्त कार्यशाला का आयोजन जनसम्पर्क विभाग द्वारा किया गया है।
कार्यक्रम में उपस्थित प्रेस क्लब अध्यक्ष श्री विजय यादव ने बताया कि कोई भी खबर प्रकाशित करने से पहले हमें एक बार अवश्य सोचना चाहिए कि इसका प्रभाव आमजन, सामाजिक व्यवस्थाओं पर किस प्रकार पडेगा। कई बार हम खबर लिखने के दौरान ऐसी बातों का उल्लेख कर देते है, जिसका प्रभाव समाज के युवाओं पर विपरीत पड़ता है। इसलिए खबर बनाते समय सजगता रखी जाना अत्यंत जरूरी हैं
कार्यशाला में बड़वानी नईदुनिया समाचार पत्र के संवाददाता श्री विवेक पाराशर ने एक उदाहरण देकर बताया कि आज के समय की पत्रकारिता संवेदनशील पत्रकारिता हो गई है। अतः हम ऐसी कोई खबर न प्रकाशित करे जिसका समाज पर गलत प्रभाव पड़े। हो सकता है कि कोई खबर ऐसी हो जिसे समाचार पत्र में बहुत लोकप्रियता मिले पर अगर वो खबर नकारात्मक होकर समाज पर गलत प्रभाव डालती है तो उसे प्रकाशित न किया जाना ही श्रेष्ठ होता है।
कार्यशाला में जनसम्पर्क विभाग के संयुक्त संचालक इन्दौर डॉ. आर.आर. पटेल, मुख्य अतिथि डॉ. भूपेन्द्र गौतम, इन्दौर के वरिष्ठ पत्रकार श्री सुनिल बघेल, प्रेस क्लब बड़वानी अध्यक्ष श्री विजय यादव सहित बड़ी संख्या में प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया के मीडियाबंधु उपस्थित थे। इस अवसर पर अतिथियों को पत्रकार बंधुओं के द्वारा स्मृति चिन्ह भी भेंट किया गया। कार्यक्रम का संचालन श्री हेमंत शर्मा ने किया एवं जनसम्पर्क विभाग बड़वानी के सहायक संचालक श्री एस.के. सिलावट ने आभार व्यक्त किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.