न रहेगा बांस न बजेगी बांसुरी, अपराधों की जड़ पर प्रहार ,कुख्यात भूमाफिया जिला बदर

Scn news india

मनोहर

भोपाल-नायक फिल्म की तर्ज पर कमलनाथ सरकार ने अपराधों की  जड़ को ही  ख़त्म करने की दिशा में कठोर कारवाही करनी शुरू कर दी है , न रहेगा बास न बजेगी बांसुरी  कहावत की तर्ज पर आपराधिक प्रवृत्ति को पनपाने वालों के ठिकानों को ध्वस्त करना शुरू कर दिया है।  जहाँ से संगठित अपराध जन्म लेता है , ऐसे भूमाफियाओ , सट्टेबाजों , जुआ चलने वालों की सूची प्रदेश में बनती जा रही है। जिन पर कारवाही से लोगों में व्याप्त भय तो समाप्त हो ही  रहा है , बल्कि अब लोग खुलकर इनके बारे में सरकार को बता भी रहे है।

इसी कड़ी में कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट, भोपाल श्री तरूण पिथोड़े द्वारा मध्यप्रदेश राज्य सुरक्षा अधिनियम 1990 की धारा 5 (क)(ख) के अंतर्गत विभिन्न अपराधों में संलिप्त एक कुख्यात भूमाफिया को भोपाल जिला एवं इसके समीपवर्ती जिलों की सीमाओं से निष्कासित करने के आदेश जारी किए हैं।
अपराधी के विरूद्ध पारित निष्कासन आदेश में जिला भोपाल और उससे लगे अन्य जिलों विदिशा, सीहोर, रायसेन, राजगढ़ तथा होशंगाबाद की राजस्व सीमाओं से बाहर चले जाने का आदेश दिया गया है। पुलिस अधीक्षक भोपाल के प्रतिवेदन के आधार पर की गई कार्रवाई में इसके विरूद्ध शहर के विभिन्न थानों में हत्या,हत्या का प्रयास, लूट, तोड़फोड़, चाकूबाजी, मारपीट, लड़ाई-झगड़ा, जान से मारने की धमकी देने, चोरी, जुआ, सट्टा खेलने एवं खिलवाने, नकबजनी, अवैध शस्त्र रखने आदि के 08 अपराध पंजीबद्ध हैं।
जिला मजिस्ट्रेट ने पिंकी उर्फ भूपेन्द्र सिंह चौहान उर्फ भदौरिया पिता यदूनाथ सिंह चौहान थाना ऐशबाग भोपाल को तीन माह की अवधि के लिए जिला बदर किया   है। जिला मजिस्ट्रेट ने अनावेदक को यह भी निर्देशित किया है कि जिला बदर की अवधि समाप्त होने के उपरांत तीन माह में 100 पौधों का वृक्षारोपण करेगा तथा इस संबंध में प्रत्येक 15 दिवस में थाना प्रभारी को वृक्षारोपण की जानकारी देना होगी। तीन माह पूर्ण होने के उपरांत जिला मजिस्ट्रेट के न्यायालय में भी वृक्षारापेण की जानकारी प्रस्तुत करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.