60 से 70 प्रतिशत लाने वाले बच्चे किसी भी बड़े उच्च पद के लिए योग्य रहते हैं- मुनि श्री प्रशांत सागर जी महाराज

Scn news india

स्वामी सींग दमोह 

दमोह। संत शिरोमणि आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के परम शिष्य पूज्य मुनि श्री 108 प्रशांत सागर जी महाराज एवं मुनि श्री 108 निर्वेग सागर जी महाराज का शुक्रवार सुबह दमोह नगर आगमन हुआ। इस मौके पर आर्यिका श्री सकल मति माताजी ने ससंघ सहित एवं दमोह जैन समाज द्वारा मुनि श्री की मंगल अगवानी की गई। मुनि संघ की मंगल अगवानी में कुंडलपुर क्षेत्र कमेटी के अध्यक्ष संतोष सिंघई, जैन पंचायत अध्यक्ष सुधीर सिंघई विमल लहरी, रूपचंद जैन, संगम गिरीश अहिंसा, महेश बड़कुल, रूपचंद सी.ई.ओ सुनील वेजिटेरियन, संजीव शाकाहारी, श्रेयांश सराफ, चक्रेश शाहपुर, शैलेंद्र मयूर, संदीप अखिलेश पंडित आदि की उपस्थिति रही।

नन्हे मंदिर जैन धर्मशाला में आयोजित प्रवचनों में मुनि श्री ने कहा कि आज के आधुनिक युग में बच्चों को संस्कार युक्त शिक्षा देना अति आवश्यक है इसके लिए बच्चों को धर्म की पाठशाला में भेजना मां-बाप का परम कर्तव्य बनता है किंतु बच्चों को धार्मिक पाठशाला में नहीं भेजा जाता जिससे बच्चे संस्कारों से दूर हो जाते है। बच्चों पर लौकिक पढ़ाई का बहुत अधिक दबाव रहता है।

उन्हें अधिक से अधिक प्रतिशत लाने का मानसिक दबाव दिया जाता है जबकि 60 से 70 प्रतिशत लाने वाले बच्चे किसी भी बड़े उच्च पद के लिए योग्य रहते हैं बच्चों पर 70 प्रतिशत से अधिक अंक लाने का दबाव नहीं बनाना चाहिए। बच्चों को ऐसे स्कूल में नहीं भेजना चाहिए जहां मांसाहार का समर्थन किया जाता हो। जिन स्कूलों में अप्रत्यक्ष रूप से सदाचार एवं शाकाहार के लिए प्रेरित ना किया जाए बच्चों को ऐसे स्कूल में नहीं भेजना चाहिए। समाज को ऐसे स्कूलों की स्थापना के लिए विशेष ध्यान देना चाहिए जिससे बच्चों के संस्कारों को जीवित रखा जा सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

"scn news india"copyright'-2007-2020-(स्वामित्व/संपादक-राजेंद्र वंत्रप, चैनल हेड-हर्षिता वंत्रप,Registerd MP08D0011464 /63122/ 2019 /WEB)   'scnnewsindia@gmail.com