बिदाई से पहले दुल्हन ने निभाई मतदान की जिम्मेदारी

scn news india

मनोहर

सीहोर -19 मई को लोकतंत्र के महात्यौहार में भाग लेने हर वर्ग उत्साहित दिखा। लोकसभा निर्वाचन 2019 के लिये 21-देवास संसदीय क्षेत्र अन्तर्गत सीहोर की आष्टा विधानसभा क्षेत्र में सुबह 7 बजे से ही मतदान केन्‍द्रों पर मतदान करने के लिये लोग जमा होना शुरु हो गए थे। आयोग के निर्देशानुसार सभी मतदान केन्‍द्रों पर मतदाताओं के लिए आवश्‍यक सुविधाएं उपलब्‍ध कराई गई थी।

बिदाई से पहले दुल्हन ने निभाई मतदान की जिम्मेदारी  

   21-देवास संसदीय क्षेत्र अन्तर्गत आष्टा विधानसभा क्षेत्र की बेटी हर्षिता ने का विवाह संपन्न होने के उपरांत ससुराल जाने से पहले अपने मताधिकार का प्रयोग किया। नंदकिशोर जी की बेटी हर्षिता ने वोट डालकर देशहित को सर्वोच्च प्राथमिकता दी है। हर्षिता के पति पंकज ने भी दुल्हन के इस निर्णय का स्वागत किया। हर्षिता ने अपने माता-पिता नंदकिशोर एवं बंसती बैरागी के साथ मतदान केन्द्र पहुंचकर वोट डाला फिर वह अपने ससुराल के लिए विदा हुई।

वृक्ष की जड़ों की तरह परिवार और देश के लिए बुजुर्ग भी महत्वपूर्ण-जमुना बाई

   102 वर्षीय जमुना बाई ने 19 मई को अपने मताधिकार का प्रयोग करके समाज को यह संदेश दिया कि उम्र के किसी भी पड़ाव में लोकतंत्र के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाने का जज्बा हर नागरिक में होना चाहिए। आष्टा की जमुना बाई अपने मताधिकार की शक्ति को भलिभांति जानती हैं। वे कहती है कि जिस प्रकार एक वृक्ष के लिए जड़ों की अहमियत होती है वैसे ही परिवार और देश के लिए बुजुर्ग भी महत्वपूर्ण हैं। आष्टा की ही शतायु उमराव बाई, 85 वर्षीय सिंगारी बाई, 80 वर्षीय जसरथ बाई, 80 वर्षीय बेवी सोनी आदि बुजुर्गों ने भी मतदान किया। प्रशासन द्वारा मतदान केन्द्रों पर की गई व्हीलचेयर की व्यवस्था से बुजुर्गों ने सुगमता से मतदान किया।

दिव्यांग भी हर बाधा पार करके पहुंचे मतदान करने
सुगम मतदान की पहल को दिव्यांग मतदाताओं ने किया सार्थक

   निवाचन आयोग के निर्देशानुसार जिला प्रशासन द्वारा दिव्यांग मतदाताओं के लिए सभी आवश्यक सुविधाएं मतदान केन्द्रों पर कराई गई। सुगम मतदान की पहल को दिव्यांग मतदाताओं ने सार्थक कर दिखाया। दिव्यांग मतदाताओं ने व्हीलचेयर की सहायता से मतदान केन्द्र के अंदर पहुंचकर मतदान किया। आष्टा की 70 वर्षीय पुनिया बाई दिव्यांग होने के साथ-साथ वृद्ध नागरिक भी हैं, वे कहती हैं कि मेरा वोट लोकतंत्र के लिए महतत्वपूर्ण है और मैं दिव्यांगता को अपनी कमजोरी न समझते हुए हर चुनाव में अवश्य अपने मतादधिकार का प्रयोग करती हूं। इस प्रकार अन्य दिव्यांगों ने प्रशासन द्वारा की गई व्यवस्थाओं के प्रति संतुष्टि व्यक्त करते हुए आभार प्रकट किया।

प्रथम बार मतदान करके युवाओं ने निभाई अपनी भूमिका

   आष्टा क्षेत्र के युवा मतदाताओं ने उत्साह पूर्वक मतदान किया। आष्टा की छाया कुशवाह, शिवानी कुशवाह, शानू परमार आदि ने 19 मई को प्रथम बार अपने मताधिकार का प्रयोग किया। छाया कहती है कि देश के विकास से ही मेरा और सबका भविष्य जुड़ा है हम सभी को वोट करके लोकतंत्र के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभानी चाहिए।
आष्टा के आदर्श मतदान केन्द्र क्रमांक 190 में मतदाताओं के लिए निर्वाचन आयोग द्वारा जारी दिशा निर्देश के अनुरुप जिला प्रशासन द्वारा सारी व्यवस्थाएं की गई थी। केन्द्र में छोटे बच्चों को लेकर मतदान करने आने वाली महिलाओं की सुविधा के लिए पालनाघर बनाया गया था। जितना समय माताओं को मतदान करने में लगा उतने समय तक बच्चे आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के साथ पालनाघर में खेलते नजर आए।
आष्टा में पदस्थ अधिकारी/कर्मचारियों ने भी अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!