सामाजिक समरसता के अग्रदूत थे डॉ.भीमराव अंबेडकर

सारनी :-भारत के संविधान निर्माता, भारत रत्न डॉ.भीमराव अंबेडकर सामाजिक समरसता के अग्रदूत थे। उन्होंने जीवन पर्यन्त समाज में व्याप्त विषमताओं और विसंगतियों के विरुद्ध संघर्ष किया और भेदभाव मुक्त समाज की स्थापना के लिए प्रयास किया ।उक्त विचार सरस्वती विद्या मंदिर में डॉ.भीमराव अंबेडकर के महापरिनिर्वाण दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में वरिष्ठ आचार्य सुनील नागले ने व्यक्त किए। इस अवसर पर सुरेश जावलकर ने भी अपने विचार रखते हुए कहा कि डॉ.अंबेडकर जी के सामाजिक एकता विषयक विचार आज भी प्रासंगिक हैं। बाबा साहब के बताये मार्ग पर चलना उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। इससे पहले बाबा साहब के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई। कार्यक्रम में विद्यालय स्टाफ एवं छात्र -छात्राएँ उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!