साईकिल से जा रहे प्यासे युवाओ को पानी पिलाया तो भावुक हुये युवा

scn news india

 

नितिन दत्ता 

तामिया – घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूँ कर लें किसी रोते हुए बच्चे को हँसाया जाए मशहूर शायर निदा फाजली साहब कि ये पंक्तिया शुक्रवार को चरितार्थ हो गयी | महाराष्ट्र के नागपुर से पचमढी गये दो युवक कुंआबादला से पैदल वापस लौटते हुये कई वाहनो से पानी नही मिलने के बाद दो युवको के चेहरे पर उस समय खुशी का ठिकाना नही रहा जब तामिया के एक सह्रदय व्यक्ति ने वापस जाकर पानी पिलाया | शुक्रवार के दिन मध्यप्रदेश विज्ञानासभा के कार्यक्रम अधिकारी आरिफ खान अपने सहयोगी सुनील ठाकुर के साथ हरसदिवारी से लौट रहे थे उस दौरान साईकिल नागपुर से पचमढी गये दो युवक कुआबादला से वापस घाट पर पैदल जा रहे थे तेज प्यास लगने पर दोनो लडको ने गुजरने वाले वाहनो से पानी मांगा किसी से भी पानी नही मिल पाया | ये पता चलने पर आरिफ खान जी ने अपने सहयोगी सुनील ठाकुर को रोककर दो बोतल पानी लिया वापस उन दोनो को पानी पिलाया इस दौरान भावुक होकर दोनो युवा रोने लगे | विज्ञानसभा के आरिफ खान ने उन बच्चो को खाना खिलाने सहित अन्य बात कही उसके बाद दोनो नागपुर के लिये रवाना हो गये | आरिफ भाई ने बताया कि मानवता की सेवा से बडा इस दुनिया मे कोई धर्म नही है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!