मारपीट कर, अस्थि भंग करने वाले, अभियुक्‍तगण को 01 वर्ष का सश्रम कारावास व जुर्माना

scn news india

मोहम्मद आज़ाद

न्यायालय ने मारपीट कर, अस्थि भंग करने वाले, अभियुक्‍तगण को 01 वर्ष का सश्रम कारावास व जुर्माना की सजा सुनाई है।  दिनांक 03.10.2016 को फरियादी राजू यादव ने थाना-अजयगढ़ में आकर रिपोर्ट लेख कराई कि, घटना दिनांक 03.10.2016 को शामं को 6 बजे फरियादी राजू यादव की पत्‍नी राजावाई ग्राम बड़ीरूंध स्थित शासकीय कुंआ से पानी भरने गई थी। तभी फरियादी का भाई आरोपी छोटे लाल यादव फरियादी राजू यादव की पत्‍नी राजावाई को अश्लील गालियां देते हुए उसे पानी भरने से मना किया तब राजावाई ने आरोपी छोटे लाल यादव को गाली देने से मना किया, तो आरोपी छोटे लाल यादव ने डंडे से राजावाई यादव की मारपीट कर दी, जिससे उसके पैर में चोटें आई और वह जमीन पर गिर गई। तभी फरियादी राजू यादव अपनी पत्‍नी को बचाने के लिये दौड़ा, तो फरियादी के छोटे भाई आरोपी रामस्‍वरूप ने उसे पकड़ कर जमीन पर गिरा दिया और लातों घूसों से उसकी मारपीट कर दी, जिससे फरियादी राजू यादव के दोनों पैर एवं दाहिनी हाथ में चोटें आई। फरियादी राजू यादव एवं उसकी पत्‍नी राजावाई के चिल्‍लाने पर उसकी लड़की लीलावाई एवं लड़का नंदराम आ गये, तो आरोपीगण ने उसकी लड़की लीलावाई को भी घूंसे मारे जिससे उसे दाहिनी हाथ की अंगुली में चोटें आई, तो इतने में गांव के अन्‍य लोग आ गये, जिन्‍होंने मौके पर आकर बीच बचाव किया आरोपीगण जाते-जाते कह रहे थे, कि दोबारा कुये से पानी भरने आई तो जान से खत्‍म कर देंगे। फरियादी राजू यादव की रिपोर्ट पर से,थाना-अजयगढ ने अपराध क्रमांक 254/16 पंजीबद्ध कर,विवेचना में लिया, वाद विवेचना चालान माननीय न्‍यायालय में प्रस्‍तुत किया गया।
प्रकरण का विचारण माननीय न्‍यायालय श्रीमान् अरविन्‍द कुमार बरला, न्‍यायिक दण्‍डाधिकारी, प्रथम श्रेणी, तह.अजयगढ, जिला-पन्ना (म.प्र.) के न्यायालय में हुआ। अभियोजन के द्वारा आरोपी भगवानदास कोरी के विरूद्ध अपराध संदेह से परे प्रमाणित किया गया। अभियोजन के द्वारा, आरोपी के किए गए कृत्‍य के लिए,अधिक से अधिक दंड से दंडित किये जाने का निवेदन किया गया। माननीय न्यायालय के द्वारा, अभियोजन के तर्कों से,सहमत होते हुए दोनों अभियुक्‍तगण छोटे लाल यादव पिता बादल यादव,उम्र-30 वर्ष, रामस्‍वरूप यादव पिता बादल यादव दोनों निवासी-ग्राम बड़ीरूंध, थाना-अजयगढ़,जिला-पन्‍ना, को धारा 325, भा.द.वि में 1 वर्ष का सश्रम कारावास और 500/-रूपये के अर्थदण्‍ड से तथा अर्थदण्‍ड की राशि जमा न करने पर 01 माह का अतिरिक्‍त सश्रम कारावास एवं धारा 323 भादवि में 3 माह का सश्रम कारावास एवं 500 रूपये के अर्थदण्‍ड से दंडित किया गया,अर्थदण्‍ड न जमा करने पर 15 दिवस का अतिरिक्‍त सश्रम कारावास से दण्डित किया गया। प्रकरण में जिला लोक अभियोजन अधिकारी श्री प्रवीण कुमार सिंह के मार्गदर्शन में,शासन की ओर से पैरवी,श्री उमेश सोनी,सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी, अजयगढ़, जिला पन्‍ना द्वारा की गई।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!