महिला खिलाड़ी के गर्भवती मामले में 2 कोच 2 वार्डन निलंबित, महिला खिलाडी के बयान ने बचा ली अकादमी की लाज

scn news india

नोहर

भोपाल – मध्य प्रदेश खेल  एकेडमी की 19 वर्षीय महिला खिलाड़ी के गर्भवती होने और प्रीमेच्योर बच्चे को जन्म देने तथा  पैदा हुई बच्ची के दम तोड़ने की संवेदनशील  शासन में शासन ने कड़ी कारवाही करते हुए  प्रारंभिक स्थिति में  2  कोच  एवं 2 वार्डन को निलंबित कर दिया है।  वही महिला  खिलाड़ी ने पुलिस को लिखित बयान दिया है कि  बच्ची उसके साथी की है। वह बालिग है और उनके संबंध सहमति से बने थे। हालांकि मामला जो भी हो सच जाँच में सामने आ ही जाएगा किन्तु पुरे मामले में  एकेडमी के अधिकारियों की इस चूक को उजागर हुई है , कि एक गर्भवती खिलाड़ी कई महीनों से एकेडमी में थी और उन्हें पता तक नहीं चला। जिसमे प्रबंधन की खामियां उजागर होती है कि  राज्य के खेल परिसर से नॅशनल -इंटरनेशनल खिलाडियों को प्रशिक्षण दे कर तैयार किया जाता है वहां इतनी बड़ी चूक कैसे हो गई , यानी खेल परिसर के अंदर खाने कुछ तो गड़बड़ है।

इधर खेल संचालक डॉ.एसएल थाउसेन के अनुसार एकेडमी में मेडिकल और फिटनेस टेस्ट नियमित होते हैं।  तो फिर उन्हें महिला खिलाडी के  गर्भवती होने की जानकारी क्यों नहीं मिल पाई ।

खेल संचालक डॉ.एसएल थाउसेन  का कहना है की उन्हें पता होता तो दोनों यानी महिला खिलाड़ी और नवजात का पूरा ध्यान दिया जाता  उन्होंने कहा है की महिला खिलाडी को  वापस एकेडमी में रखा जाएगा और काउंसलिंग की जाएगी। डा. थाउसेन के मुताबिक खिलाड़ी ने पुलिस को बताया है कि उसके साथी से संबंध सहमति से बने हैं। इसलिए पुलिस ने भी कोई केस दर्ज नहीं किया है। दूसरीओर डॉ. थाउसेन ने यह स्वीकार किया है कि एकेडमी में महिला वार्डन और काउंसलर की संख्या कम है। एकेडमी में 177 महिला खिलाड़ी और सिर्फ दो महिला वार्डन हैं। जिस पर खेल मंत्री जीतू पटवारी ने काउंसलर एवं वार्डन की नियुक्ति किये जाने का आश्वासन दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!