भीमकुंड न्यास अध्यक्ष ने रामानुजाचार्य को दिए सारे अधिकार, न्यास की संपत्तियों की करेंगे देखरेख

scn news india

प्रद्युम्न फौजदार 

बड़ामलहरा /प्रसिद्ध पर्यटक एवं तीर्थ स्थल भीमकुंड न्यास के अध्यक्ष सीतारामाचार्य ने मुख्तारनामा के जरिए अपने सारे अधिकार और जिम्मेदारियां रामानुजाचार्य को सौंपी हैं जो भीमकुंड की समस्त संपत्तियों की देखरेख करेंगे। उल्लेखनीय है कि बुंदेलखंड का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल और पर्यटक स्थल भीमकुंड न्यास के वर्तमान अध्यक्ष सीतारामाचार्य जो रघुनाथ आश्रम वृन्द्रावन में निवास करते जिनके अधीन कृषि भूमि स्थित ग्राम बाजना भीमकुंड एवं ढ़िमरवां तहसील बक्सवाहा की भीमकुंड स्थित समस्त मंदिर परिसर में संचालित संस्कृत विद्यालय तथा संस्था से जुड़े समस्त चल अचल संपत्ति का अधिकार महंत रामानुजाचार्य तनय विष्णु प्रपन्नाचार्य को एक मुख्तारनामा के जरिए अधिकार दिए हैं।

वृंदावन धाम में सीतारामाचार्य ने जरिए मुख्तारनामा किया है कि मैं वैष्णव परंपरा के अंतर्गत भीमकुंड न्यास समिति ग्राम बाजना जिला छतरपुर का न्यास विधिवत गठित हो कर संचालित है।न्यास के अंतर्गत चल व अचल संपत्तियां जो कि पैर 01से लगायत 04 में वर्णित है जिनका संचालन समस्त देख रहे वित्तीय निर्णय एवं अन्य समस्त कार्य जो न्यास से संबंधित उपरोक्त संपत्तियों के संबंध में मेरे द्वारा दिए जाते हैं तथा उक्त संपत्तियों के संबंध में शासकीय कार्य व न्यायालय में लंबित प्रकरण में न्यास की ओर से पक्ष पेश करने अधिवक्ता नियुक्त करना वाद-विवाद प्रस्तुत करना वाद वापस लेना जवाब प्रस्तुत करना आदि समस्त कार्य मेरे द्वारा संपादित किए जाते हैं पैरा 3 में वर्णित विद्यालय का संचालन एवं आचार्य एवं प्राचार्य की नियुक्ति एवं निष्कासन विद्यालय में अध्ययनरत विद्यार्थियों एवं नए विद्यार्थियों का प्रवेश के साथ कार्य अध्यक्ष होने से मेरे द्वारा किए जाने वाले कार्य सम्मिलित हैं मुख्तारनामा में उन्होंने यह भी लेख किया है कि मैं रघुनाथ आश्रम वृंदावन जिला मथुरा उत्तर प्रदेश में महंत हूं और वर्तमान में वहीं निवासरत हूं मैं काफी वृद्ध हो चुका हूं इस कारण मुझे भीमकुंड न्यास बाजना आने-जाने व संचालन करने में काफी असुविधा होती है जिससे न्यास का कार्य प्रभावित होता है इस कारण उक्त न्यास व न्यास से जुडी पैरा 01 व लगायत पैरा 04 में वर्णित संपत्तियों की देखरेख सुरक्षा वित्तीय मामले शासकीय न्यायालय मामले व संस्कृत विद्यालय से संबंधित ऊपर वर्णित समस्त कार्य सुचारू रूप से संचालन हेतु मुख्तार ग्रहिता श्री महंत रामानुजाचार्य तनय विष्णु प्रपन्नाचार्य महंत भीमकुंड आश्रम को अपना मुख्तार आम नियुक्त करता हूं तथा उन्हें यह अधिकार देता हूं मेरी ओर से पैरा 01 से लगायत 04 में उपरोक्त वर्णित लेखक के अनुसार समस्त कार्य करेंगे।गौरतलब है कि महंत रामानुजाचार्य को अध्यक्षीय मिलने से भीमकुण्ड में बदहाली के शिकंजे में जकडे़ विद्यालय की स्थिति में सुधार होने की उम्मीद लगाई जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!