बोर्ड ऑफ डायरेक्टर की बैठक में तय हो चुका था सारनी में लगेगी 660 मेगावाट की सुपर क्रिटिकल यूनिट :- रंजीत सिंह

scn news india

हर्षिता वंत्रप 

सारनी  – विगत दिनों  सारनी कांग्रेस नेता द्वारा  नई इकाई सतपुड़ा ताप विद्युत गृह सारनी एवं अमरकंटक के चचई मे लगाने  के संदर्भित  जारी सर्कुलर सोशल मिडिया पर डालें जाने  एवं  भाजपा पर जनविरोधी  आरोप  लगा ने  के मामले में  भाजपा  के जिला मंत्री रंजीत सिंह  ने पलटवार  किया है , उन्होंने मामले की सच्चाई  सामने लाते हुए कहा है कि  660मेगा वाट की नई इकाई सतपुड़ा ताप विद्युत गृह सारनी एवं अमरकंटक के चचई मे लगाने हेतु मध्यप्रदेश की पूर्व भाजपा सरकार ने 12 सितंम्बर 18 को मप्रं पावर जनरेटिंग कंपनी लिमिटेड के निदेशक मड़ल की 97 वी बैठक भोपाल मे मध्यप्रदेश के प्रमुख उर्जा सचिव व मध्यप्रदेश पावर जनरेटिग के अध्यक्ष आई सी पी केसरी अध्यक्षता मे सम्पन्न हुई थी ।जिसमे सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया था की 660 मेगावाट क्षमता की एक इकाई अमरकटक ताप विद्युत गुह चचाई के विधुत गुह एक एव दो के सेवानिव्रत इकाईयों के स्थान पर 660 मेगावाट क्षमता की एक इकाई सतपुड़ा ताप विधुत गुह सारनी के परिसर मे स्थापित करने की अनुमति प्रदान की । भाजपा सरकार द्वारा बोर्ड ऑफ डायरेक्टर की बैठक में यह प्रस्ताव लिया गया था कि सारनी एवं अमरकंटक के चचाई में 660 मेगा वाट की सुपर क्रिटिकल यूनिट लगाई जाएगी | जिसकी घोषणा प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जी चौहान द्वारा जन आशीर्वाद यात्रा के समय पाथाखेडा के फुटबॉल ग्राउंड में की गई थी |
वर्तमान में जो पत्र सोशल मीडिया पर जारी किया जा रहा है इसका नई यूनिट लगाने के कोई संबंध नही है यह केवल यूनिट के केपीटल एक्सपेंडीचर/स्टोर काउंटिंग आदि के नामकरण हेतु जारी किया गया है जो केवल मध्यप्रदेश पावर जनरेटिंग कंपनी के विभागीय कार्य हेतु जारी किया गया , एवं विभाग अतिरिक्त इसका कोई दूसरे कार्य में उपयोग नहीं किया जा सकता | लेकिन चुनावी फायदे के लिये काग्रेस के पदाधिकारी जनता को भ्रमित करने का प्रयास कर रहे और कही न कही इस साजिश मे पावर जनरेटिंग कंपनी के अधिकारी भी शामिल है जो कही न कही यह सर्कुलर को 14 मार्च को जानबुझकर डाला गया की सरकार की किरकिरी होने से बचा जा सके ।जब पिछली सरकार ने निदेशक मड़ल की बैठक मे इसे पास कर दिया था फिर सर्कुलर पत्र आचार सहिता लगने के पश्चात आनन फानन मे क्यो लाया गया किसका दवाब था और यह पत्र काग्रेसी पदाधिकारियो को उपल्बध कराके सोशल मिडिया चर्चा का विषय रहा की एक पार्टी कॊ किरकिरी होने से बचाया जा सके ।भाजपा जिलामत्री रंजीत सिह ने आरोप लगाया की वर्तमान काग्रेसं की सरकार जानबुझकर 660 मेगावाट यूनिट सारनी की इकाई की प्रक्रिया को लबिंत कर छिदवाड़ा मे नई इकाई लगाने का टेड़र जारी किया गया । सतपुड़ा पावर प्लाट सारनी के 660 मेगावाट क्षमता की इकाई लगाये जाने का कार्यालयीन सर्कुलर पावर प्लांट फहुचने से पहले सोशल मिडिया कैसे पहुंचा जबकी यह सर्कुलर जारी करने का औचित्य क्या था जबकी सरकार के उर्जा मंत्री  प्रियव्रत सिह ने विधानसभा सत्र के दौरान आमला विधायक डा० योगेश पंडाग्रे को इसकी जानकारी दी थी की पिछली भाजपा की सरकार ने सारनी और चचई में 660 मेगा वाट सुपर क्रिटिकल यूनिट की स्थापना के लिए बोर्ड ऑफ डायरेक्टर की बैठक में निर्णय ले लिया है दोनों ही स्थानों पर नई सुपर क्रिटिकल यूनिट की स्थापना होनी है | रंजीत सिह ने कहा की लोकसभा चुनाव के आर्दश आचार सहिता लगे होने के पश्चात जनता को भ्रमित करने के लिये सर्कुलर पत्र जो 14 ता० को जारी करके अधिकारियो ने आचार सहिता का उलंघन किया और गोपनियता भंग की । इसकी उच्चस्तरिय जॉच होनी चाहिये ।

CUTTING

 

 

One thought on “बोर्ड ऑफ डायरेक्टर की बैठक में तय हो चुका था सारनी में लगेगी 660 मेगावाट की सुपर क्रिटिकल यूनिट :- रंजीत सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!