बंदियों को अच्छा भोजन उपलब्ध करायें- मानव अधिकारी आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति नरेन्द्र कुमार जैन

scn news india


Scn news india
अभिषेक जैन
दमोह मानव अधिकारी आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति नरेन्द्र कुमार जैन एवं सदस्य
मनोहर ममतानी ने आज दोपहर जिला
जेल पहुंचकर बंदियोंको मिलने वाली मूलभूत सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने जेल मेंकान्फ्रेंसिग कक्ष, अनाज गोदाम और अनाज की गुणवत्ता, चिकित्साआदि व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया और बंदियों से चर्चा कर समस्याको सुना तथा बंदियों को अच्छा भोजन उपलब्ध कराने के निर्देश दिये।

इस मौके पर मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी राकेश कुमार ठाकुर, अपरकलेक्टर आनंद कोपरिहा, एसडीएम रविन्द्र चौकसे, नगर पुलिसअधीक्षक मुकेश अबिद्रा, नगर निरीक्षक आर.के.गौतम गौतम, जेलअधीक्षक रामलाल सहलाम सहित जेल विभाग के अन्य अधिकारीकर्मचारी मौजूद थे।
जेल बैरिक निरीक्षक के दौरान अध्यक्ष न्यायमूर्ति नरेन्द्र कुमारजैन एवं सदस्य मनोहर ममतानी ने बंदियों से न्यायालय में चल रहे उनकेप्रकरणों के बारे में जानकारी ली। सदस्य श्री ममतानी ने बंदियों से पूंछाकोई परेशानी तो नहीं है, हो तो बतायें। उन्होंने नये बंदियों से मिलकरबात की । उन्होंने कहा खाना ठीक से मिलता है, कोई बीमार तो नहीं है,अध्यक्ष  न्यायमूर्ति श्री जैन ने बंदियों की मांग पर कहा लीगल एडवोकेटदिलवायें। जिन कैदियों की पैरवी हेतु स्वयं के एडवोकेट उपलब्ध नहींहै, उसे शासकीय एडवोकेट के माध्यम से विधिक सेवा उपलब्ध कराईजाये।  रसोई घर में पहुंचने पर जेल अधीक्षक ने विस्तृत जानकारी दी।उन्होंने व्हीसी के बारे में जानकारी ली।


अध्यक्ष न्यायमूर्ति नरेन्द्र कुमार जैन एवं सदस्य मनोहर ममतानीने बंदियों को दिये जाने वाले खाद्य अनाज के गोदाम का निरीक्षण किया,गोदाम में गेंहूं, चांवल, दाल आदि का अवलोकन किया। उन्होंने बंदियोंको अच्छा भोजन उपलब्ध कराने निर्देशित किया।
निरीक्षण के दौरान बताया गया डॉक्टर सप्ताह में दो दिन आतेहैं, कैम्प लगाते है, पर विशेष बीमारियों के लिये यहां जनरल कैम्प होनाआवश्यक है। उन्होंने जेल अधीक्षक से कहा बंदियों का स्वास्थ्य परीक्षणअवश्य कराया जाये तथा उसका रिकार्ड संधारित किया जाये। प्रत्येकबंदी की सामान्य स्वास्थ्य जाँचें यथा ब्लड की जाँच, सुगर, ब्लड प्रेशरकी जाँच आदि कराई जाये। गंभीर बीमारी होने पर बंदियों को मेडिकलकॉलेज रेफर किया जाये। न्यायमूर्ति श्री जैन ने प्रतिकार निधि से बंदियोंको दी जाने वाली राशि के संबंध में भी जानकारी ली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!