जान जोखिम में डाल पानी पीने को मजबूर ग्रामीण,कमर पर रस्सी बांध कुएं में उतर पानी भरने को मजबूर  , 600रुपय टेंकर से पानी खरीदकर बुझ रही प्यास 

scn news india

अलकेश साहू SCN न्यूज़ झल्लार

 

. आठनेर – आठनेर विकासखंड के ग्रामों मे इन दिनो पानी कि एक एक बुंद के लिए लोग परेशान है एक ऐसा ही नजारा ब्लाक क्षेत्र की ग्राम पंचायत बाकुड़ की ग्राम पंचायत के ग्राम रेणुकाखापा मे देखने को मिला जहा पीने कि पानी कि इतनी गंभीर समस्या है कि लोग जान जोखिम मे डालकर आधे कुएँ मे उतर कर  अपनी प्यास बुझा रहे है जब हमने यह समस्या देख ग्राम के निवासी एवं शिक्षक  ज्ञानदेव आहाके  ने  बताया कि हमारे गांव मे अभी भी नलजल योजना नहीं है 150 मकान की बस्ती में  दो माह से पानी कि समस्या से परेशान है बमुश्किल हमें पीने नहाने के लिए कुछ कुओं  से थोड़ा थोड़ा  कर पानी निकालना पडता है कई कुऔ मे हमें नीचे उतर कर पानी बाल्टी मे भरकर देना पडता  है जिससे हमेशा जान जोखिम मे डालना पडता हे।

 

ग्राम की पेयजल समस्या के प्रति गंभीर नहीं है ग्राम पंचायत है 

जिला कलेक्टर के आदेश की अवेलहना 

 

ग्रामीणों द्वारा संरपच सचिव  को ग्राम की पेयजल समस्या हल करने के लिए कई बार कहा लेकिन अभी तक सरपंच सचिव द्वारा गंभीरता से गांव की पेयजल समस्या का निराकरण नहीं किया दो  किलोमीटर दूर से पानी लाना पड रहा है और हम मटमैला पानी पीने को मजबूर है हमारी पानी की समस्या हल करो साहब तो सरपंच व सचिव ने साफ कह दिया कि हमारे पास पानी के लिए कोई पैसा नहीं है जब  सरकार पैसा भेजेगी तब तुम्हारी समस्या हल होगी तब तक हम कुछ नहीं कर सकते

जनपद पंचायत मे भी हमारी कोई  नहीं सुनता कई वर्षो से हम पानी की समस्या अधिकारी को बताने के बाद  चुनाव  में वोट मांगने के लिए  नेता बडे बडे वादे करते हैं लेकिन गांव की जनता अभी भी प्यासी है ।

धामनगांव मे भी पानी कि किल्लत है 

भैसदेही जनपद कि सबसे बढ़ी पंचायत धामनगांव जिसकी आबादी लगभग चार हजार कि है नलजल योजना भी  है और एक कुआ व दो बोर जिसमें पर्यापत पानी भी है पर पंचायत के कर्मचारियों कि ला परवाही से एक माह मे पानी मिलता है नलजल योजना के विस्तार मेनटेनेस के नाम पर पैसो कि राशी का भी भरपुर दुरपीयोग किया पर इसके बावजुद समस्या हल नही कर पा रहे है। ग्राम के उपसरपंच कमलेश धोटे ने बताया कि आज दो महा हो गये धामनगांव के लोग परेशान है मैने कई बार सचिव ननकू से कहा कि समस्या हल करो पर सचिव को तो पंचायत मे आने कि फुर्सत ही नही।मैंने कई बार इस सम्बंध मे अधिकारिओ से बात कि पर कोई हल नही निकला गाव मे पानी की तो बात है विकास तक नही हो रहा है मैं अब उच्च अधिकारीओ से मिलकर पंचायत मे हो रहे कार्य कि समिकछा करवाउंगा ।सब अधिकारी व सचिव मिले जुले होते है इस लिए जनता कि समस्या हल नही हो पाती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!