अज्ञानी की उपासना अज्ञान को बढ़ाती है-मुनि श्री विमल सागर

scn news india

अभिषेक जैन संभाग ब्यूरों 

दमोह। सर्व श्रेष्ठ साधक आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के शिष्य मुनि श्री विमल सागर जी, मुनि श्री अनंत सागर जी, मुनि श्री धर्म सागर जी, मुनि श्री अचल सागर जी,  मुनि श्री भाव सागर जी महाराज श्री दिगंबर जैन नन्हे मंदिर दमोह में विराजमान है। मंगलवार सुबह इष्टोपदेश ग्रन्थ पर उपदेश देते हुए मुनिश्री विमलसागर जी ने कहा कि अज्ञानी की उपासना, सेवा अज्ञान को देती है। ज्ञानियों की सेवा ज्ञान को देंती है क्योकि यह बात अच्छी तरह प्रसिद्ध है जिसके पास जो होता है उसी को वह देता है।अध्यात्म के चिंतन से कर्मो की निर्जरा होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!