जैविक मेले का आयोजन किसानों ने लगाई सब्जियों की प्रदर्शनी

scn news india

Aashutosh trivedi scn news

किसानों ने जैविक खेती को अपनाकर विनय उन्नत कृषक

आठनेर- ब्लाक के धामोरी गांव में शुक्रवार के दिन कृषि विभाग द्वारा आत्मा योजना अंतर्गत जैविक मेले का आयोजन किया गया ।और किसानों को जैविक खेती का प्रशिक्षण दिया गया। किसानों ने जैविक खेती के जरिए उगाइ सब्जियों की प्रदर्शनी भी लगाई। पूर्व में कृषि विभाग द्वारा जैविक खेती के लिए 50 किसानों को चयनित कर जैविक खेती के लिए प्रेरित किया गया था ।जिसमें प्रशिक्षण प्राप्त किसानों ने अपने खेत मे
सब्जियाँ और सोयाबीन जैविक पद्धति से उगाइ थी।जिसका प्रदर्शन धामोरी में लेंगे जैविक मेले में किया गया। जैविक खेती को अपनाने वाले किसानों को फायदा मिला है। जैविक मेले आयोजन में जैविक खेती करने वाले सेवानिवृत्त वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी सी के वागद्रे नामदेव बारस्कर कृष्णा गीद ने किसानों को जैविक खेती का प्रशिक्षण दिया । कृषि विभाग ने वर्ष 2015 16 में 50 किसानों को जैविक खेती करने के लिए प्रेरित किया था ।तीन साल तक किसानों द्वारा जैविक खेती की। जिसका उन्हें भरपूर फायदा मिला ।मेले में 50 किसानों ने अपनी
जैविक पद्धति से उगाइ सब्जी सोयाबीन एवं अन्य फसल केंचुआ खाद नीम तेल का प्रदर्शन किया।

गोभी टमाटर सोयाबीन की लगाई प्रदर्शनी

क्षेत्रीय किसानों ने जैविक पद्धति से फसल उगाकर भरपूर लाभ प्राप्त किया है ।-बड़ी कंपनियों केे रासायनिक कीटनाशकों को छोड़कर जैविक खेती को अपनाने वाले किसानों को लागत भी कम लग रही है और
उपज भी भरपूर आ रही है। उनकी उपज स्वास्थ्य के लिए भी लाभप्रद है । किसानों ने अपने खेत में उगाइ गोभी टमाटर सोयाबीन एवं अन्य फसलों को प्रदर्शनी के तौर पर जैविक मेले में लाया था ।जहां पर स्टाल लगाकर प्रदर्शित किया गया। ग्राम धमोरी के कृषक माधोराव सातपुते प्रकाश बनाईत दिगम्बर बनाईत ने बताया की जैविक खेती से जुड़ने पर आज उन्नत कृषि कर लाभ मिला है।

जैविक खेती के फायदे

कृषि विभाग द्वारा क्षैत्र के किसानों को आत्मा योजना अंतर्गत जैविक खेती करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है । मेले मे जैविक खेती के लाभ बताये गये । कृषि अधिकारी डी के सोलंकी ललित लहरपुरे ने बताया की बड़ी बड़ी कंपनिया महंगे दामों पर कीटनाशक दवाईयो कि बिक्री करती है। जिससे फसल खेत और किसानों की सेहत पर इसका बुरा असर पड़ता है ।जैविक खेती करने से किसानों की सेहत पर भी बुरा असर नहीं पड़ेगा।और कम लागत पर उत्पादन भी ज्यादा होगा। जैविक खेती के जरिए उगाई सब्जियां फल और फसलें भी स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभप्रद है। अधिकांश लोग जैविक खाद पदार्थों का ही उपयोग कर रहे हैं ।कीटनाशक और रासायनिक दवाओं के उपयोग से उगाइ सब्जियां और फसलें स्वास्थ्य पर भी प्रभाव डालती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
WhatsApp chat